Skip to main content

प्रेम पत्र - love later

            प्रेम पत्र

सुनो ,
            जब मैंने तुम्हे पहली बार देखा था न तभी से तुम मेरे जेहन में बस गई हो सोते जागते हँसते रोते खाते पीते समय , यानी की हर समय मुझे तुम्हारी ही प्यारी सी सूरत दिखाई देती है

जब से नजरो में आई हो 
तुम तो दिल में छाई हो 
हो गया हूँ जैसे बेबस मैं 
तुम तो मेरी जिंदगी में समाई हो ।

वही झील सी आँखे वही नदियो के मुहाने से खूबसूरत होंठ प्यारी सी नाक भोला भाला और सबसे अच्छा वाला चेहरा और इस चेहरे पर लटकती हुई तुम्हारी ये लटें जिन्हें तुम अपने हांथो की अँगुलियों से बार बार उठाकर कान के पीछे फंसा देती हो और ये है की किसी बदमाश की तरह फिर से तुम्हारे कोमल से गालों पर तुम्हे छेड़ने के लिए आ जाते है ।

झील सी आँखे और गुलाबी गाल देखूं
रब का बनाया एक शक्श कमाल देखूं
जो तू नहीं तो शायद गरीब हो जाऊं
और तू मिले तो मैं मालामाल हो जाऊँ

ना जाने क्यों मैं चाह कर भी कुछ और अलग नही सोच पाता हूँ कई बार मैंने कोशिश भी की मैं तुम्हारे बारे में ना सोच कर कुछ और सोचूँ या फिर किसी और को याद करूँ पर नहीं यार कुछ समझ ही नही आता की अब ये मेरा दिल मेरी ही बात क्यों नही मान रहा है मुझसे ही बेवफाई क्यों कर रहा है ऐसे लगता है की जैसे इसका मालिकाना हक तुम्हे ही मिल गया है ।

ये दिल हुआ है अब तेरा 
बस नही चल रहा मेरा ना जाने क्यों
गा रहा है ये तेरे धुन को ही हरपल
खुद को भूलता जा रहा है ना जाने क्यों
क्यों ऐसी बेबसी है छाई
क्यों ऐसी आफत है मुझपे आई
मेरा होकर भी ये मेरा दिल मेरा ना रहा
बस तेरी ही यादें मुझको हर पल आई



अब तो साँसे भी हर पल तुम्हारा नाम लेने लगी है और तो और ये सब मेरे साथ पहली दफा हो रहा है जब कोई मेरी जिंदगी में इस कदर छा गया है बस हर पल हर जगह उसी की तस्वीर दिखाई दे रही है और उसी के होने का अहसास हो रहा है और सच कहूँ तो मुझे भी इस से ख़ुशी मिलने लगी है अगर यही प्यार है तो मैं खुशनसीब हूँ की मैं भी प्यार को महसूस कर सकता हूँ और सच पूछो तो मैं इस अहसास को कभी खोना नही चाहता बोलो क्या तुम भी मेरा साथ दोगी ना इस जिंदगी को और भी हसीं बनाने में .......?


क्या तुम भी मेरे लिए कुछ ऐसा ही महसूस कर रही हो अगर हाँ तो क्या तुम जिंदगी भर के लिए मेरा हाथ थामना चाहोगी यकीन मानो मैं तुम्हे कभी भी जिंदगी के किसी मोड़ पर अकेला नही छोड़ूंगा । प्यार तो तुमसे बे- इंतेहा करता ही हूँ इसलिए हमेशा खुशियों के ढेर पर बैठा कर रखूँगा और तुम्हारे ऊपर गम के एक भी बादल बरसने नही दूंगा ।

साँसों में बसने लगी हो तुम
हो गया है तुमसे मुझे प्यार
बोलो तुम चलोगी मेरे साथ 
जिंदगी के सफर पर मेरे यार
क्योंकि 
तूम मेरी इबादत हो 
तुम लगती क़यामत हो 
मैं जी ना सकूँ तेरे बिन


बोलो ना क्या तुम मेरी जिंदगी की हमसफ़र बनोगी 
बोलो न क्या तुम मेरे साथ जिन्दगी भर का सफ़र चलोगी 
क्या तुम भी मुझसे बिना शर्त के बे - इंतेहा मुहब्बत करोगी ।

 मेरे आखिरी शब्द -
मुझे नही पता की तुम क्या सोच रही हो मगर मैं और मेरा दिल हम दोनों हमेशा यही कहेंगे की 
हमें तुमसे मुहब्बत है
हमें तुमसे मुहब्बत है 
में तुमसे मुहब्बत है

हमेशा की तरह आज भी तुम्हारे इन्तजार में

                      
                              सिर्फ तुम्हारा
                                  
                                  ( सुमित )


सुमित कुमार सोनी - फेसबुक
Post a Comment

Popular posts from this blog

खुला खत - 1 (शोहदों के नाम )

एक खुला ख़त तमाम शोहदों के नाम


नमस्कार ,

                समझ नहीं आता की कैसे और कहाँ से शुरू करूँ , आखिरकार आप लोगों की करस्तानियाँ ही ऐसी हैं ।

आप कॉलेजों के बाहर , गलियों के मुहानो पर तथा नुक्कड़ों पर मिलने वाले वही महान विभूतियाँ है जो लड़कियों का जीना हराम कर देते हैं ।

                  यूँ ही आवारागर्दी करते करते आप को कोई भोली भाली सी लड़की पसंद आ जाती है, कुछ दिनों तक आप उसे राह चलते देख देख कर आँख सेकते हैं(आपकी भाषा में) ,  फिर उस लड़की का नाम पता करते हैं , अब आप उस लड़की से ना जाने किस सस्ते टाइप का प्यार करने लगते है जिसके मूल में देहाकर्षण ही होता है परंतु आप इसे सच्चे प्यार का नाम देते है और आप अब उस लड़की को पाने के लिए जमीन आसमान एक करने लगते हैं अपने दोस्तों वगैरह से बताते फिरते हैं सिवाय उस लड़की को बताने के !!!!


एक दिन वो भी आता है की आप अपने दोस्तों की बात मान लेते है और  बहुत हिम्मत करके अपना हाल ए दिल उस लड़की को बता देते हैं परंतु यह क्या ..............?

वो लड़की आप से प्यार करने से इन्कार कर देती है।


अब आपके अहंकार को ठेस पंहुचता है , आप सोचते है की उस लड़की की इतनी हिम…

वर्तमान हिंदी सिनेमा

वर्तमान हिंदी सिनेमा

हम आज आदरणीय दादा साहब फाल्के जी के द्वारा लगाये गए उस बीज की चर्चा कर रहे है जो आज एक विशाल वृक्ष का रूप ले चुका है ।
हिंदी सिनेमा आज हमारे मनोरंजन के साथ - साथ कुछ नए तहजीबों और नए तरीकों को सिखने का एक जरिया भी है इसी के वजह से हम अपने देश तथा विदेशों के भी अन्य विशेष गुणों को सिख लेते है जिन्हें हम शायद प्रत्यक्ष रूप से कभी भी जान नही पाते ।
विगत कई वर्षों से रामायण - महाभारत तथा पुराणों से  संबंधित कई फिल्में आई जिन्हें देखकर लोग कुछ अपने धार्मिक पुराणों और उनके किरदारों तथा पूज्य देवी देवताओं के बारे में रोचकता पूर्वक अधिक जानकारी भी प्राप्त किये ।

कुछ पारिवारिक पृष्ठभूमि की बेहतरीन फ़िल्में भी आई जिनके कारण हमारे समाज के रहन - सहन में भी थोड़ा और बदलाव आया जिससे हम अपने संस्कारों के साथ- साथ आधुनिक भी बनें ।

21 वीं सदी का यह दौर भी भारतीय सिनेमा में एक नए किस्म का बदलाव लेकर आया अब कई तरह की फ़िल्में बनने लगी है जिनमे से कुछ तो हमारे समाज के लिए सकारात्मक सन्देश देती है परंतु कुछ फ़िल्में ऐसी भी होती है जिनके कारण  दर्शक अपने जीवन की वास्तविकता से दूर होकर हवाई …

मुबारकबाद नए साल की

नव वर्ष में नव गीत का सृजन कर लो
जीवन में अपने कुछ परिवर्तन कर लोे
हैं इस दुनिया में बेरंग और दुखी बहुतेरे
संग उनके अपना भी जीवन रंगन कर लोे

मैं , सुमित आपको और आपके परिवार को  दिल से नव वर्ष 2⃣0⃣1⃣7⃣ की बहुत ढ़ेर सारी हार्दिक❤ शुभकामनायें देता हूँ।

©सुमित चंद्र सेठ
सुमित कुमार सोनी (फेसबुक)